भइल नोटबंदी

u-p-dwivedi

भइल नोटबंदी भइल नोटबंदी

इ गरवा के हड्डी भइल नोटबंदी

 

खबर जइसे आइल मचल बाटे हल्ला

आ बैंके के नीचे जुटल बा मोहल्ला

मरद मेहरारू आ हम आउर रुऊआ

लगल सब निकाले आपन पान सऊवा

त बिहने से लल्लन लगा लिहलें लाइन

आ गड्डी क रुपिया ले अइलीं पड़ाइन

आ सोचलस सभै कि लगा लीहिं छक्का

त होखे लगल रोज धक्का पे धक्का

लाइन में लग के लगल लोग बोले

कि चोरवन क मोदिया बिगड़ले बा ठंडी ॥ भइल नोटबंदी…………………..

 

दुखा गइलें भइया,दुखा गइलीं भउजी

दुखा गइलें उहो जे खइलेस चिरौंजी

रोवैं ले घुसखोर अफसर विधायक

आ रोवैं मनिस्टर आ उनकर सहायक

आ रोवै जे रखले बा काली कमाई

बढल ब्लड प्रेसर आ खालें दवाई

एसे कुछु न होई ई कहलें विरोधी

पबलिक के बऊचट बनवले बा मोदी

त कहलें फलाने आ कहलें ढेकाने

उहे छऊँछियाता जेकर नेत गंदी ॥ भइल नोटबंदी ……………………………

 

केतनन के बा नोटबंदी सतवले

आ केतना त लाइन में लग के भजवलें

आ केतना त अधिया पे गड्डी उठावें

आऊर कुछ मनीजर के मिलके पटावें

आ केतनन कपारे उधारी भइल बा

तबे रेड इनकम पे भारी भइल बा

आ केतनन के जाड़ा में आइल पसीना

अबो  नोटबंदी चली कुछ महीना

त सस्ता बा सोना आ सस्ता बा चानी

परपरटी के धंधा में आईल बा मंदी ॥ भइल नोटबंदी…………………………………..

 

  • उदय प्रताप द्विवेदी

 

Related posts

Leave a Comment