संतोष पटेल से बातचीत – भोजपुरी आन्दोलन के बारे में :

santosh-patel-1

भोजपुरी भाषा – साहित्य के प्रचार प्रसार में विगत 15 साल से बिहार उत्तरप्रदेश आ झारखण्ड के अलावा दिल्ली के आपन कर्मभूमि बनावेवाला संतोष पटेल खुद एगो कवि,साहित्यकार, संपादक आ भोजपुरी मान्यता खातिर तन मन धन से लागल एगो आन्दोलनकर्ता बानी। भोजपुरी भाषा के सांविधानिक मान्यता ला विगत एक दशक से संतोष पटेल महती भूमिका निभा रहल बानी। भोजपुरी भाषा मान्यता आंदोलन के तत्ववधान में भोजपुरी जन जागरण अभियान चल रहल बा। जेकर राष्ट्रीय अध्यक्ष के नाते पटेल जी आंदोलन के एगो देशव्यापी ज़मीन तैयार क रहल बानी। उहें से…

Read More

भोजपुरी कई मायने में हिंदी से अलग है: राजेन्द्रप्रसाद सिंह

r-prasad

डाॅ. राजेन्द्रप्रसाद सिंह भोजपुरी और हिंदी के प्रमुख भाषावैज्ञानिक एवं आलोचक हैं। पूर्वोत्तर भारत की भाषाओं पर सम्पूर्ण रूप से काम करनवाले वे हिंदी के पहले भाषावैज्ञानिक हैं। उन्होंने एक साथ पंचानवे भाषाओं का शब्दकोश संपादित किया है। वे ऐसे पहले आलोचक हैं जिन्होंने हिंदी साहित्य में सबाल्टर्न अध्ययन का सूत्रपात किया। भोजपुरी में दलित चेतना को रेखांकित करनेवाले भी वे पहले आलोचक हैं। साथ ही भोजपुरी का पहला त्रिभाषी कोश का संपादन करने का श्रेय भी उन्हें प्राप्त है। भोजपुरी भाषा को लेकर ‘‘भोजपुरी जिंदगी’’ के संपादक एवं युवा…

Read More